Emirate के ख़िलाफ़ भारत ने उठाया बड़ा क़दम तो अभी अभी सरकार ने बदला फ़ैसला, हिंदुओ की बड़ी जीत

विमानन कंपनी एमिरेट्स एयरलाइस ने हिंदू मील बंद करने के अपने फैसले को वापस ले लिया है। एमिरेट्स ने कहा कि यात्रियों के फीडबैक के बाद उसने हिंदू मील बंद नहीं करने का फैसला किया है। एयरलाइंस की तरफ से कहा गया कि अपने हिंदू यात्रियों की सुविधा को देखते हुए वह यह ऑप्शन बंद नहीं करेगा। इससे पहले अमीरात ने हिंदू मील बंद करने को लेकर बयान जारी किया था। बता दें कि अधिकांश बड़ी एयरलाइंस अपने विमानों में शाकाहारी और मांसाहारी खाने का विकल्प देती हैं। एयर इंडिया में भी धार्मिक भोजन का विकल्प होता है।

कड़े विरोध के चलते एयरलाइंस को अपना फैसला वापस लेना पड़ा

आपको बता दें कि, बुधवार को एयरलाइन ने बयान जारी कर कहा था कि यात्रियों से लगातार मिल रहे सुझावों के बाद ‘हिंदू मील’ के विकल्प को बंद करने का फैसला किया गया है। हालांकि फर्स्ट क्लास और बिजनेस क्लास के यात्रियों के लिए यह सुविधा उपलब्ध रहेगी। लेकिन एयरलाइंस के इस फैसले का सोशल मीडिया पर विरोध होना शुरु हो गया। लोगों के कड़े विरोध के चलते एयरलाइंस को अपना फैसला वापस लेना पड़ा। अब फिर से एमिरेट्स एयरलाइंस में पहले की तरह हिंदू खाना मिलेगा।

यात्री हवाई टिकट बुक करने से पहले अपनी पसंद का खाना बुक कर सकते

एयरलाइंस ने अपने पूर्व में किए गए फैसले में कहा था कि, हिंदू कस्टमर अडवांस में तमाम क्षेत्रीय शाकाहारी आउटलेट्स से अपना खाना बुक कर सकते हैं। ये आउटलेट्स विमान के अंदर भी खाने की सुविधा मुहैया करवाते हैं। इसमें कई विकल्प हैं, जैसे हिंदू मील, जैन मील, भारतीय शाकाहारी खाना, कोशर मील, बगैर बीफ वाला मांसाहारी खाना। गौरतलब है कि, कुछ अंतररष्ट्रीय विमानों में यात्रियों द्वारा अपनी धार्मिक आस्था के अनुरूप खाना बुक कराने की सुविधा दी जाती है। यात्री हवाई टिकट बुक करने से पहले अपनी पसंद का खाना बुक कर सकते हैं।

 

 

क्या होता है हिंदू मील

एयरलाइंस हिंदू यात्रियों के लिए दो तरह के खाने का विकल्प देते हैं। पहला एशियन वेज मील, जो कि पूरी तरह से शाकाहारी होता है और दूसरा हिंदू मील। हिंदू मील में मुख्यत: हिंदू समुदाय के यात्रियों के लिए होता है जो शाकाहारी नहीं होते और मीट, मछली, अंडा और डेरी प्रॉडक्ट्स खाते हैं। हालांकि, इस खाने में बीफ नहीं होता है।

 

Bitnami