सऊदी अरब से भाग कर थाईलैंड आई रहफ मोहम्मद अल कुनून कानया को ऑस्ट्रेलिया शरण देने पर विचार कर रहा है। रहफ ने अपने परिवार पर प्रताड़ना का आरोप लगाते हुए ऑस्ट्रेलिया से शरणार्थी बनाए जाने की अपील की थी। रहफ की मांग पर ऑस्ट्रेलिया ने बताया कि उसकी अपील को बेहद सतर्कता से देखेंगे सब ठीक रहा तो उसे शरणार्थी का स्टेटस दे दिया जाएगा। बता दें कि सऊदी लड़की को संयुक्त राष्ट्र ने बुधवार को शरणार्थी का दर्जा दे दिया।

ऑस्ट्रेलिया के गृह मंत्रालय ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थी समिति यूएनएचसीआर ने शरणार्थी के तौर पर उनके पुनर्वास के लिए उनका मामला ऑस्ट्रेलिया में स्थानांतरित कर दिया था। फिलहाल रहफ बैंकॉक में यूएन की सुरक्षा में रह रही है। जब रहफ ऑस्ट्रेलिया जा रही थी तो एयरपोर्ट अधिकारियों ने डिपोर्ट करने की कोशिश की थी पर उसने अपनी कहानी और परिवार की प्रताणना को लगातार ट्वीट किया जिसकी वजह से वो वापस सऊदी भेजे जाने से बच गई। रहफ बीते सप्ताह के अंत में अपने परिवार से भागकर कुवैत से बैंकॉक पहुंची थी।

रहफ का आरोप है कि उनके परिवार ने उनकी शारीरिक और मानसिक प्रताड़ना की है। रहफ का कहना है कि वो ऑस्ट्रेलिया में शरण मांगने की सोचकर आई थी। रहफ को इस बात का डर है कि अगर बैंकॉक अधिकारियों ने वापस सऊदी भेजा तो उसे मार दिया जाएगा। पहले से ही मानवाधिकार के मामले में तार-तार सऊदी अरब के ट्रैक रिकॉर्ड की अमेरिकी मीडिया वॉशिंगटन पोस्ट के पत्रकार जमाल खाशोगी की हत्या के बाद और कड़ाई के साथ समीक्षा की जा रही है।