शेर की दहाड़ हैं, शाहनवाज़ अबकी बार हैं, हर जगह शाहनवाज़ का दबदबा दिखना शुरू

 

जी कुछ ऐसे ही शब्द गूजने शुरू हो गए हैं बिहार की उपराजधानी भागलपुर शहर में, मौक़ा था आज वैषणो देवी के दर्शन पर जाने वाले जत्थों को रेलवे स्टेशन पर मिलन का. भारी संख्या में श्र्धालुवो के बीच में पहूचे शाहनवाज़ हुस्सैन तो सब के भाव कुछ इस क़दर हो गए जैसे लगा की लोगों के बीच में कोई अपना आ गया, कोई उस क़द का आ गया जिसके वजह से अमरनाथ तक सीधी रेल सेवा शुरू हुई थी.

मृणाल शेखर, अश्विनी मोंटी और अन्य भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच खड़े शाहनवाज़ और पब्लिक में शब्द शुरू हो गए शेर की दहाड़ हैं, शाहनवाज़ अबकी बार हैं, हालाँकि मामला कोई पलिटिकल नही था पर वक़्त के तक़ाज़े ने भागलपुर को नए सांसद का थ्रिल दिखा दिया.

 

 

Bitnami