भागलपुर सांसद देखते रह गए, और निशिकांत दुबे ने देवघर में बनवा दिया ज़बरदस्त IT-PARK

देश के सबसे जोशीले विकास सांसद के नाम पर सबसे बड़े नामो में शामिल निशिकांत दुबे के प्रयासों ने गोड्डा संसदीय क्षेत्र को एक और बड़ा तोहफ़ा दिया हैं, अब AIIMS, AIRPORT, के बाद कौन सी चीज़ जिसने गोड्डा के लिए विकास द्वार खोल दिया हैं आइए जानते हैं आज के इस coverage में.

 

भागलपुर: दरभंगा और भागलपुर के तरह ही देववघर सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क का जसीडीह इंडस्ट्रियल एरिया में का निर्माण कार्य पूरा किया जा चुका है। फिलहाल इस साल से इसके शुरू हो जाने की उम्मीद है, जिससे हजारों लोगों के लिए रोजगार के अवसर खुल गयें हैं।

 

देवघर, दरभंगा और भागलपुर मे एक साथ की गई थी सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क की घोषणा।

देश में आईटी सेक्टर के विकास की योजना के तहत दस शहरों में सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क के निर्माण की योजना तैयार की गई थी। इसके तहत दरभंगा, भागलपुर और देववघर का चयन बिहार झारखंड से किया गया था।

 

मालूम हो की दरभंगा और देववघर में एयरपोर्ट और एम्स भी प्रस्तावित हैं, वहीं भागलपुर एयरपोर्ट को भी उड़ान योजना के तहत विकसित किये जाने की तैयारी चल रही हैं। दरभंगा, देववघर और भागलपुर के आईटी हब के तौर पर विकास की बड़ी संभावना जताई जा रही हैं, और इनके निर्माण से तीनो जिलों के आइटी के क्षेत्र में विश्व के मानचित्र पर आ जाने की बात भी कही गई है।

 

मई 2018 में सरकार द्वारा आईटी पार्क के लिए बिहार सरकार ने उपलब्ध कराई भूमि

राज्य मंत्रिमंडल ने सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क की शाखा स्थापित करने के लिए 2018 मे 30 वर्ष की लीज पर सूचना एवं प्रावैधिकी विभाग को निश्शुल्क जमीन देने का प्रस्ताव स्वीकृत कर दिया था। मालूम हो की 2018 से पहले तक केंद्र मे राजग और बिहार में महागठबंधन की सरकार के होने के कारण मामला आरोप प्रत्यारोप मे अटका रहा।

 

जहां राज्य केंद्र पर भूमि आवंटन के लिए धन ना देना का आरोप लगाती रही, वहीं केंद्र राज्य पर आईटी पार्क के लिए जमीन ना मुहैया कराने का आरोप। फिलहाल घोषणाओं के खेल के बीच, केंद्र और राज्य मे एक ही गठबंधन की सरकार होने के बाद भी लोगों को इसके जमीन पर उतरने का इंतजार है।

Bitnami