प्रमंडलीय आयुक्त राजेश कुमार को जान का खतरा है। इस लेकर उनके सरकारी ई मेल पर बुधवार को एक अज्ञात व्यक्ति ने अलर्ट करते हुए संदेश भेजा है। मेल करने वाले ने जिससे आयुक्त को खतरा है, उसका नाम राजेश कुमार, एमपी द्विवेदी रोड भागलपुर बताया है।

 

मेल की जानकारी होते ही प्रशासनिक महकमे में हड़कंप मच गया। आनन फानन में पुलिस ने जांच शुरू कर गोशाला रोड में रहने वाले राजेश नाम के व्यक्ति को ढूंढ निकाला। सिटी डीएसपी राजवंश सिंह ने उससे पूछताछ की है। वह जेनरेटर चलवाता है। उसने कहा कि किसी ने फंसाने के लिए इस तरह का काम किया है। पुलिस मामले की हर बिंदु पर जांच कर रही है।

 

बढ़ा दी गई है सुरक्षा

डीआइजी ने इस मसले पर एसएसपी आशीष भारती को अपने स्तर से जांच कराने का निर्देश दिया है। उन्होंने इस मामले में गंभीरता से हर बिंदु की जांच कराकर सच्चाई का पता लगाने को कहा है। एसएसपी ने इस लेकर सिटी डीएसपी को जांच का निर्देश दिया है। वे अपने स्तर से इस मामले की मॉनीटङ्क्षरग कर रहे हैं। उन्होंने कहा है कि अभी तक आयुक्त की लिखित शिकायत प्राप्त नहीं हुई है। लिखित शिकायत मिलने के बाद इस मामले में प्राथमिकी भी दर्ज की जाएगी। अलर्ट के बाद आयुक्त के आवास की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

 

मसेंजर पर की थी आपत्तिजनक टिप्पणी

राजेश ने पुलिस की पूछताछ में बताया है कि कुछ दिनों पहले उसके मैसेंजर पर कई लोगों ने आपत्तिजनक टिप्पणी कर दी थी। इसके बाद उसका नाम और नंबर सार्वजनिक कर दिया गया। इस लेकर उसने एकाउंट बंद करा दिया। पचड़े से बचने के लिए उसने पुलिस को शिकायत नहीं की थी। उसने कहा कि उसकी किसी से कोई दुश्मनी नहीं है। फिर भी उसका मोबाइल नंबर और नाम मेल करने वाले ने लिखा। वह खुद भी नहीं समझ पा रहा। अब पुलिस तकनीकी एक्सपर्ट की मदद से मेल करने वाले व्यक्ति की तलाश कर रही है।

 

दिन भर अधिकारियों के घनघनाते रहे फोन

अलर्ट वाला ई मेल मिलते ही प्रशासनिक महकमे में खलबली मच गई। दिन भर भागलपुर में अधिकारियों के फोन की घंटी घनघनाती रही। मुख्यालय ने भागलपुर पुलिस से जांच कर पूरी रिपोर्ट मांगी है। प्रारंभिक जांच में मामला किसी शरारती तत्व का लग रहा है।

 

एसएसपी आशीष भारती ने कहा कि मामले की जानकारी होने पर सिटी डीएसपी से जांच कराई जा रही है। मामले की वे खुद मॉ‍नीटरिंग कर रहे हैं। लिखित शिकायत मिलने पर प्राथमिकी भी दर्ज होगी।