बख्तियारपुर के सालिमपुर थाना क्षेत्र में रविवार की सुबह सनसनीखेज वारदात को अंजाम दिया गया। सालिमपुर गांव में पत्नी हीरा देवी (25 वर्ष) ने ही प्रेमी दीपक (25 वर्ष) से पति रंजीत उर्फ टुनी (35 वर्ष) की हत्या करा दी। महिला के प्रेमी और उसके एक दोस्त ने रंजीत को दौड़ा-दौड़ा चाकुओं से गोद डाला। रविवार सुबह करीब पौने आठ बजे वारदात को उस समय अंजाम दिया गया, जिस समय वह खेत में काम कर रहा था। घटना के बाद से सभी स्तब्ध हैं। उधर, सालिमपुर पुलिस ने महिला हीरा देवी को साजिश रचने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है। वहीं, दोनों आरोपितों की तलाश में छापेमारी की जा रही है।

 

बताया जाता है कि हत्या के कुछ घंटे पहले यानी शनिवार रात एक घंटे तक महिला ने वीडियो कॉल पर प्रेमी दीपक से बात की थी। उसी दौरान पति के कत्ल की बात पर सहमति जता दी। बाढ़ की एडिशनल एसपी के मुताबिक, हत्या की साजिश रचने में रंजीत की पत्नी भी शामिल थी। रंजीत अपनी पत्नी हीरा और दीपक के संबंधों का विरोध करता था।

 

 

प्रत्यक्षदशियों के अनुसार, दीपक अपने एक अन्य साथी के साथ खेत पहुंचा और रंजीत से बात करने लगा। इस बीच बकझक होने लगी। इस बीच दीपक व उसके साथी ने चाकू निकाल लिया और रंजीत पर हमला कर दिया। दोनों से बचने के लिए रंजीत खेत के दूसरी ओर भागने लगा। मगर दौड़कर दोनों ने उसे पकड़ लिया व शरीर पर चाकुओं से ताबड़तोड़ वार करने लगा। अंत में गर्दन रेत डाली। इससे रंजीत की मौके पर ही मौत हो गई। फिर दोनों हमलावर सड़क किनारे लगी बाइक से भाग निकले। दूसरी ओर रंजीत के पिता जर्नादन शर्मा ने सालिमपुर थाने में बहू और उसके प्रेमी दीपक के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है।

 

 

बिहार: सड़क हादसे में युवक की मौत पर बवाल, आक्रोशित लोगों ने किया रोड जाम
एडिशनल एसपी, बाढ़ लिपि सिंह ने कहा कि दीपक की तलाश में छापेमारी की जा रही है। उसके पकड़े जाने के बाद यह पता चलेगा कि हत्या में और कौन लोग शामिल थे। मृत युवक की पत्नी के मोबाइल से अहम सुराग हाथ लगे हैं, जिसके जरिये कातिल का पता चल सका।

 

अपने पिता की मर्डर मिस्ट्री से रंजीत के बच्चों ने पर्दा उठाया। रंजीत के दोनों बच्चों ने कहा कि एक जनवरी को दीपक अंकल घर आए थे। पापा के साथ उनका झगड़ा हुआ था। दीपक अंकल ने पापा को धमकी दी थी। इसके बाद पुलिस ने फौरन रंजीत की पत्नी के मोबाइल की पड़ताल की तो पता चला कि दीपक से उसकी घंटों बातचीत होती है। पुलिस का कहना है कि तफ्तीश के बाद सारी चीजें स्पष्ट हो गईं।.

 

 

हीरा देवी के पास कीमती मोबाइल देख पुलिस चौंक गयी। जब उससे यह पूछा गया कि उसके पास इतना कीमती मोबाइल कहां से आया तो उसने खुद के पैसे मोबाइल खरीदने की बात कही। इस पर पुलिस ने उससे सवाल दागा कि जब वह कोई काम नहीं करती तो पैसे कहां से आये? यह सुन हीरा ने कबूल लिया कि दीपक ने उसे मोबाइल गिफ्ट किया था। कई बार उसने कीमती कपड़े भी उसे दिये हैं।

 

पिछले पांच-छह वर्षों से हीरा देवी की दोस्ती दीपक के साथ थी। दीपक मूलरूप से बेगूसराय का रहने वाला है। वह वर्तमान में अपने परिवार के साथ गया में रह रहा था। अक्सर फोन पर दोनों में बात होती थी। पुलिस के मुताबिक, कुछ वर्ष पहले हीरा देवी पटना दवा खरीदने आई थी, उसी समय दोनों में दोस्ती हुई थी। रंजीत की गैरमौजूदगी में दीपक अक्सर हीरा देवी से मिलने उसके घर जाता था। हीरा के मोबाइल की छानबीन करने पर पता चला कि शनिवार की रात पौने एक से पौने दो बजे तक उसने दीपक से वीडियो कॉल के जरिये बात की थी। इसके बाद सुबह में पौने सात से लेकर पौने आठ तक दीपक उसके साथ ऑनलाइन था। पति की चीख सुनने के लिए ही कत्ल के आरोपित ने हीरा को ऑनलाइन रखा था। जब तक वह चाकू से वार करता रहा तब तक हीरा मोबाइल पर उसकी चीख सुनती रही। रंजीत की सांस थमते ही उसने हीरा को इसके बारे में बताया और भाग निकला।

 

 

हत्या के विरोध में गांव वालों ने शव को बख्तियारपुर-पटना फोरलेन पर रख दिया और प्रदर्शन करने लगे। युवक के परिजनों को मुआवजा देने व अपराधियों की गिरफ्तारी की मांग करने लगे। बाद में एडिशनल एसपी बाढ़ व सालिमपुर थानेदार अनिल कुमार ने लोगों को समझा-बुझाकर जाम हटाया। .