Nov 13, 2019
2142 Views
Comments Off on दर्दनाक : बिहार में एक साथ 20 घरो में पहुंचा मातम का खबर, महिलाये बच्चे भी शवों में शामिल
0 0

दर्दनाक : बिहार में एक साथ 20 घरो में पहुंचा मातम का खबर, महिलाये बच्चे भी शवों में शामिल

Written by

कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर गंगा सहित राज्य की अन्य नदियों में लाखों लोगों ने स्नान किया। लेकिन स्नान के दौरान राज्यभर में 20 लोगों की मौत हो गई। देर शाम तक जिलों से आपदा प्रबंधन विभाग को मिली जानकारी के अनुसार सबसे अधिक पटना जिले में पांच लोगों की मौत हुई है।

 

 

आपदा प्रबंधन विभाग के नियंत्रण कक्ष को मिली जानकारी के अनुसार पटना जिले के विभिन्न गंगा घाटों पर स्नान के दौरान पांच लोगों की मौत डूबने से हो गई। वहीं नालंदा, नवादा, सारण और मुजफ्फरपुर जिले में तीन-तीन लोगों की मौत डूबने से हो गई। जबकि औरंगाबाद, सीतामढ़ी और पूर्वी चम्पारण में एक-एक लोगों की मौत डूबने से हो गई। आपदा प्रबंधन विभाग ने नियमानुसार मृतक के परिजनों को चार-चार लाख रुपए का अनुग्रह अनुदान देने को कहा है। जिलाधिकारियों को विभाग ने कहा है कि वे मृतक के परिजनों को तत्काल चार-चार लाख रुपए का चेक प्रदान करें।

 

 

गौरीचक में कार्तिक पूर्णिमा पर नदी में स्नान करने के दौरान डूबने से एक किशोर की मौत हो गई। सर्फाबाद निवासी टिंकू कुमार का पुत्र दिलखुश कुमार (12) नदी तट पर पर स्नान करने गया। इस दौरान उसका पैर फिसला और वह गहरे पानी तक चला गया और डूब गया। ग्रामीणों ने किसी तरह उसे नदी से बाहर निकाला लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी।

 

 

पटना सिटी। कार्तिक पूर्णिमा के मौके पर खाजेकलां गंगा घाट पर गंगा स्नान कर रहे दो दोस्त युवक डूब गए। एक युवक को सुरक्षित निकाल लिया गया। गंगा घाट पर स्नान कर रहे लोगों ने बताया कि तीन-चार की संख्या में रहे युवक गंगा स्नान कर रहे थे। इसी दौरान गहराई का पता नहीं चलने से सभी डूबने लगे। शोर मचाए जाने पर स्नान कर रहे लोगों ने किसी तरह एक युवक को डूबने से बचा लिया। जिसका नाम बिट्टू है। जबकि दो युवकों की तलाश में गोताखोर व एसडीआरएफ के जवानों को लगाया गया। काफी खोजबीन के बाद एक युवक के शव को बरामद किया गया। जिसकी पहचान मेहंदीगंज थाना क्षेत्र के रानीपुर अड्डा निवासी ओमप्रकाश के 16 वर्षीय बेटे बजरंगी उर्फ लक्खी के रूप में की गई है। वहीं दूसरे युवक रोहित की तलाश खबर लिखे जाने तक जारी थी।

 

बाढ़ में कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर टाल क्षेत्र की धनायन नदी में स्नान करने के दौरान दो युवतियों की मौत गहरे पानी में डूबने से हो गयी। भदौर थाने के तहत यह हादसा हुआ है। एक और पितौंझिया गांव में नदी में स्नान करने के दौरान वाल्मीकि प्रसाद की पुत्री वर्षा कुमारी 14 वर्ष गहरे पानी में डूब गई तो वहीं धनायन नदी में ही नालंदा के गोपालबाद निवासी विनोद यादव की पुत्री चंदा कुमारी 17 वर्ष डूब गई।

 

 

 

कार्तिक पूर्णिमा पर गंगा स्नान करने कचहरी घाट गया खरंजा रोड निवासी मनोज कुमार का 21 वर्षीय पुत्र वैभव कुमार डूब गया। घाट पर मौजूद गोताखोरों ने युवक को तुरंत निकालकर अनुमंडलीय अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर गंगा स्नान करने गयी एक महिला नदी में डूब गई। दरअसर, घोसवरी घाट से पश्चिम कुछ महिलाएं गंगा स्नान कर रही थीं। इसी बीच गहरे पानी में जाने से एक-दूसरे को बचाने में एक-एक कर तीन महिलाएं नदी में डूबने लगीं। महिलाओं को डूबते देख पास ही नहा रहे ग्रामीण नदी में छलांग लगा दो महिलाओं को डूबने से बचा लिया, जबकि 24 वर्षीया अनिता देवी नदी में डूब गईं। महिला के डूबने की खबर मिलते ही परिजन बख्तियारपुर-पटना फोरलेन को जाम कर दिया, इससे दो घंटे तक परिचालन बाधित रहा।

 

 

वहीं आपदा बलों ने डूबने से कई लोगों की जान भी बचाई है। एसडीआरएफ और एनडीआरएफ ने पटना सहित कई जिलों में डूबने से दर्जनों लोगों को बचाया। अधिकारियों ने कहा कि अगर आपदा राहत बल नहीं होते तो मरने वालों की संख्या में और इजाफा हो जाता। लेकिन बल के जवानों की सतर्कता के कारण कई लोगों की जान बच गई।

Article Categories:
Patna