अखिलेश और मायावती से मिलने के बाद तेजस्वी ने किया बड़ा ऐलान

लखनऊ में बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने आज सपा प्रमुख अखिलेश यादव से मुलाकात की और यूपी में लोकसभा चुनाव को लेकर सपा-बसपा गठबंधन के लिए बधाई दी और कहा कि केंद्र में किसकी सरकार बनेगी? ये यूपी और बिहार ही तय करेगा। तेजस्वी ने कहा कि यूपी में कांग्रेस से गठबंधन नहीं किया गया क्योंकि यहां सपा-बसपा ही काफी हैं पीएम मोदी को हराने के लिए।

तेजस्वी ने कहा कि कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने खुद ही कहा है कि भाजपा को यूपी से कोई वोट नहीं मिलने जा रहा, यहां उनकी हार तय है। अब गठबंधन किसका है? ये मायने ही नहीं रखता है।

तेजस्वी ने सीबीआइ और ईडी पर तंज कसते हुए कहा कि ये दोनों जांच एजेंसियां अब एजेंसियां नहीं रह गई हैं, ये दोनों अब भाजपा की पार्टनर हो गई हैं। इसका खामियाजा लालू जी भुगत रहे हैं, जिन्होंने मोदी के खिलाफ आवाज उठाई थी और आज वो जेल में सजा काट रहे हैं।

तेजस्वी ने इसके साथ ही बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर भी कटाक्ष किया और कहा कि नीतीश चाचा ने तो भाजपा का हाथ थाम लिया लेकिन उससे बिहार को क्या फायदा हुआ है वो जनता को बताएं? पहली बार बिहार में और केंद्र में एक ही पार्टी की सरकार है लेकिन बिहार को ये सरकार विशेष राज्य का दर्जा नहीं दे सकती।

पीएम मोदी कहते हैं बिहार को जरुरत ही नहीं विशेष राज्य के दर्जे की। अब कैसे और कौन-सा पैमाना चाहिए उन्हें वो बताएं। बिहार के पिछड़ेपन को नहीं देख रहे हैं शायद। कहा जा रहा है कि बिहार में विकास हो रहा है। डबल इंजन की सरकार है, तो क्या कर रहा है ये डबल इंजन?

तेजस्वी यादव ने यूपी में सपा-बसपा गठबंधन के लिए मायावती और अखिलेश को बधाई दी और कहा कि ये गठबंधन देश की जनता की भलाई के लिए राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य में बनाया गया है। ये गठबंधन जरूरी और एेतिहासिक है।

Bitnami